• Jun 06, 2020
  • 14:34 PM
  • Text Size
  • small font
  • reset font
  • large font
  • Website Last Updated: Jun 06, 2020

राजकीय महिला महाविद्यालय में हुआ नैतिक शिक्षा पर विशेष व्याख्यान

सोनीपत, 10 Sep। शहर के राजकीय महिला महाविद्यालय में नैतिक संस्कार शिक्षा सेवा समिति द्वारा नैतिक शिक्षा, आचार, व्यवहार, सुमार्ग पर चलने एवं चरित्र निर्माण पर विशेष व्याख्यान का आयोजन किया गया। इस संस्कार संगोष्ठी में सत्यवीर आर्य ने मुख्य वक्ता के तौर पर शिरकत की। सत्यवीर आर्य ने कहा कि नैतिकता ही शिक्षा का आधार है। नैतिक शिक्षा के बिना किसी भी प्रकार की शिक्षा ग्रहण करना व्यर्थ है। उन्होंने कहा कि हमें जीवन में सुमार्ग पर चलने का प्रयत्न करना चाहिए। शिक्षक द्वारा दिखाए गए मार्ग पर चलकर हम सफलता प्राप्त कर सकते हैं। वैर-भावना को छोड़कर हमें सत्य और त्याग के मार्ग को अपनाना चाहिए। महाविद्यालय की प्राचार्या डाॅ. सुमन दहिया ने कहा कि चरित्र निर्माण जीवन में सबसे अधिक जरूरी है। यदि किसी विद्यार्थी ने चरित्र को खो दिया तो वह अपना सब कुछ खो बैठता है। उन्होंने कहा कि हमें सभी से मैत्री भाव से मिलना चाहिए तथा एक दूसरे की मदद के लिए सदैव तत्पर रहना चाहिए।यदि सभी का साथ और सभी का विकास हमारी प्रवृति होगी तो न केवल हम विकास करेंगे बल्कि सम्पूर्ण देश विकास के पथ पर आगे बढ़ेगा। इस अवसर पर महाविद्यालय के वरिष्ठ प्राध्यापक डाॅ. दिलबाग सिंह, डाॅ. नीलम सैनी, डाॅ. नवीन वशिष्ठ, सविता मलिक, कविता राठी, प्रियंका, उप-अधीक्षक रोहतास बाल्याण सहित महाविद्यालय के सभी प्राध्यापक एवं अन्य स्टाफ सदस्य मौजूद रहे।